पैर में मोच के घरेलू उपचार

By | July 29, 2017
Loading...

पैर में मोच के घरेलू उपचार


 मोच किसी को भी और कभी भी आ सकती है। यह शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है। लेकिन ज्यादातर मोच आने की सम्भावना पैरों में ही होती है। पैर में मोच, अचानक से मुड़ने के कारण आती है। दरअसल, मोच एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें शरीर के उस हिस्से (जहाँ मोच आई हो) वहां की हड्डियों को जोड़ने वाले उत्तकों के बीच खिंचाव आ जाता है। इसी खिंचाव को मोच या स्प्रेन कहा जाता है। यदि किसी को मोच आ जाए तो, मोच वाले स्थान पर, सूजन, लाली और तेज दर्द जैसे लक्षण नजर आने लगते हैं।
loading...

यह बेहद आम परेशानी होती है और इसके लिए डॉक्टर के पास नही जाया जाता। मोच 3-4 दिनों में खुद-ब-खुद ही ठीक हो जाती है। लेकिन जब तक यह परेशानी रहती है, काफी तकलीफदेह होती है। इसलिए जब तक उत्तकों में आया खिंचाव ठीक न हो इसके दर्द से राहत पाने के लिए कुछ घरेलू उपाय किये जा सकते हैं।

पैर में मोच से राहत पाने का एक बेहद कारगर तरीका है, एक रोटी बना कर उस पर सरसों का तेल और हल्दी लगा कर पैर पर बाँध लें। इससे मोच में तुरंत राहत मिल जाएगी।

loading...
पैर में मोच से राहत पाने के ऐसे ही कुछ अन्य घरेलू उपाय-
  • हल्दी चूने (लाइमस्टोन) का गर्म लेप- प्रभावित जगह पर हल्दी और चूने को गर्म करके लगाने से दर्द में तुरंत राहत मिल जाएगी और इस मिश्रण से ब्लड क्लॉटिंग (रक्त का थक्का बनने) का खतरा भी समाप्त हो जायेगा। इतना ही नही यह मिश्रण किसी भी प्रकार की आंतरिक चोट (जिसमें रक्तस्त्राव नही होता), में भी फायदेमंद होता है।
  • हल्दी का लेप- यदि आपको मोच के साथ-साथ पैर में घिसावट यार घाव हो गया हो तो केवल हल्दी को गर्म करके इसका मोटा लेप लगाएं। हल्दी एक प्राकृतिक एंटी सेप्टिक है, अतः यह आपके घाव जल्दी ठीक करने में मदद करेगी और दर्द एवं सूजन भी में भी राहत मिलेगी।
  • चूने और शहद का लेप- मोच या चोट के तुरंत बाद यदि आपको शहद और चूना मिल जाये तो इसका उपयोग करने से प्रभावित स्थान के क्षतिग्रस्त उत्तकों को तुरंत फायदा मिलता है और गाँठ या उस स्थान को कठोर होने से बचाता है। इसका उपयोग बहुत आसान भी है। किसी बर्तन में इतनी मात्रा में शहद और उसका लगभग आधा चूना लें कि वह पूरे प्रभावित स्थान पर फैलाया जा सके, और इसका मोटा सा लेप लगा लें। जैसे ही आप चूने को शहद में अच्छे से मिलाएंगे यह मिश्रण गर्म हो जायेगा और इसे तुरंत लगा दें। 15-20 मिनट में आपको दर्द से राहत मिल जाएगी। बाद में दो तीन दिन इसका उपयोग करने से मोच ठीक हो जाएगी।
  • नमक और सरसों के तेल का लेप-  मोच या पैर में खिंचाव आने पर सरसों के तेल में बारीक़ पिसा हुआ सेंधा नमक या सामान्य नमक लेकर हल्के हाथ से मालिश करके गर्म कपड़े से सेंक कर  कपड़ा बाँध कर सो जाएं। ऐसा दो-तीन दिन करने से मोच ठीक हो जाएगी।
  • पान, अरण्ड (casterd), धतूरा, रूसा या मदार के पत्ते- इनमें से किसी भी पौधे के पत्ते लेलें उनमें सरसों का तेल लगाकर गर्म करें और मोच या चोट वाले स्थान पर बाँध दें, बहुत ही जल्दी आराम मिल जायेगा। ऐसा दो से तीन दिन करें।
  • तुलसी-पत्र का रस और सरसों तेल का लेप- तुलसी के पत्ते का रस सरसों का तेल को गर्म करके मोच वाले स्थान पर लगाने से आराम मिलता है ऐसा कुछ दिन करने से मोच पूर्णतया ठीक हो जायेगा।
  • फिटकरी (Alum) का प्रयोग- फिटकरी को अच्छे से पीसकर आधे चम्मच पाउडर को गर्म दूध में डाल कर पीने से गाँठ बनने का खतरा नही रहता एवं मोच या चोट जल्दी ठीक हो जाती है।
  • एलोवेरा जेल का प्रयोग – मोच प्रभावित स्थान पर एलोवेरा जेल लगाने से काफी आराम मिलता है। कुछ दिनों तक इसका लगातार प्रयोग करें।
  • पैर का थोड़ा ऊचा उठाएं- पैर के नीचे तकिया आदि रखे ताकि पैर थोड़ा ऊचा उठा रहे इससे रक्त संचार तेज हो जायेगा। इससे पैरों की सूजन कम हो जायेगी और दर्द भी कम हो जायेगा।
  • आराम करें- यदि आपको पैर में मोच या चोट लग गयी है, तो आपको पैर को हिलाना-डुलाना कम करना पड़ेगा। इससे वहां के उत्तकों को आराम मिल जायेगा साथ ही मांसपेशियों में आया तनाव भी कम हो जायेगा।

Source

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *